10 सालों से नहीं मनाई दीवाली यशस्वी जायसवाल ने , आंसू ला देगी उनकी एक और कहानी

sports आईपीएल न्यूज़ क्रिकेट-न्यूज़ टीम-न्यूज़

10 सालों से नहीं मनाई दीवाली यशस्वी जायसवाल ने , आंसू ला देगी उनकी एक और कहानी ..उसने टेंट में वक्त काटा, बारिश में टेंट में टपकते पानी में रातें गुजारी. जिस उम्र में बच्चे माता-पिता के सहारे दुनिया को जानने की कोशिश करते हैं, उस उम्र में उसने घर छोड़ दिया. छोटी उम्र में आंखों में बड़े सपने लिए वो मुंबई शहर आया. उसे खुद नहीं पता था कि शुरुआत कहां से करनी है, मगर आज वो स्टार है और उस स्टार का नाम है यशस्वी जायसवाल. जायसवाल में आज भारतीय क्रिकेट का फ्यूचर दिखने लगा है. उम्र महज 21 की है, मगर जब हेलमेट पहनकर, हाथ में बल्ला लेकर, टीम इंडिया की जर्सी में वो अपने करियर का पहला इंटरनेशनल मैच खेलने मैदान पर उतरे तो किसी अनुभवी खिलाड़ी से कम नहीं लगे.

खेल भी उन्होंने अनुभवी खिलाड़ी जैसा ही दिखाया और अपने डेब्यू मैच में ही शतक जड़ दिया. कोशिश तो उनकी डबल सेंचुरी की थी, मगर पारी 171 रन पर ही थम गई. आज वो चमक रहे हैं, मगर उनकी इस जगमगाहट के पीछे अंधेरे से निकलने की कहानी है. अगर उस अंधेरे को जायसवाल अपने पसीने से नहीं हटाते तो शायद वो उसी अंधेरे में गुम हो जाते. उस अंधेरे को मिटाने के लिए उन्होंने करीब 10 साल तक सही से रोशनी का त्योहार नहीं मनाया.

यशस्वी जायसवाल 10 साल से नहीं मनाई दीवाली

दीवाली में लोग दुनिया के किसी भी कोने में हो, अपने परिवार के पास पहुंच जाते हैं. वहीं जायसवाल 10 साल तक अपने माता- पिता के साथ ये त्योहार नहीं मना पाए. सबसे बड़े त्यौहार में जहां हर कोई अपने परिवार के साथ होता था, वहीं जायसवाल उनसे दूर संघर्ष कर रहे होते थे. उन्होंने अपने पिता के दिखाए सपने को पूरा करने के लिए ना जाने क्या- क्या नहीं किया. परिवार से मिलने की तड़प के बावजूद रात में जब वो थक हारकर अपने टेंट में पहुंचते थे तो सही से आराम तक नसीब नहीं होता था.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Yashasvi Jaiswal (@yashasvijaiswal28)

जायसवाल ने बताया कि उन्हें क्रिकेट खेलते देखना उसके पिता का सपना था, जिसे उन्होंने फॉलो किया और क्रिकेट खेलना शुरू किया. यशस्वी ने कहा कि ये उनके पिता के शब्द थे कि तुम ये कर सकते हो. उन्होंने कहा कि वो अपने पिता की तरह बनना चाहते हैं. भारत के उभरते बल्लेबाज ने आगे कहा कि शब्द उनके माता पिता के प्यार को बताने के लिए काफी नहीं हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *