नौ साल 3 महीने का वनवास काट मां से मिला मुंबई इंडियंस का क्रिकेटर; लोगों ने किए ऐसे कमेंट्स, MBA चायवाले ने भी दिया रिएक्शन

sports आईपीएल न्यूज़ क्रिकेट-न्यूज़

मध्य प्रदेश और मुंबई इंडियंस के क्रिकेटर कुमार कार्तिकेय ने बुधवार को खुलासा किया कि वह नौ साल और तीन महीने बाद अपने परिवार से मिले हैं। उन्होंने कहा कि इतने लंबे समय के बाद अपने प्रियजन से मिलने की खुशी वह शब्दों में बया नहीं कर सकते हैं। 24 साल के कुमार कार्तिकेय ने अपनी खुशी जाहिर करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया। उन्होंने अपनी मां के साथ वाली एक तस्वीर ट्विटर पर पोस्ट की। इसके कैप्शन में उन्होंने लिखा, ‘नौ साल 3 महीने बाद अपने परिवार और मां से मिला। अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में असमर्थ हूं।’

कुमार कार्तिकेय की यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल है। अब तक 18 हजार से ज्यादा लाइक्स और करीब 1000 रिट्वीट आ चुके हैं। कुमार कार्तिकेय के अलावा आईपीएल की फ्रेंचाइजी मुंबई इंडियंस ने भी उनकी इस तस्वीर को शेयर किया है। मुंबई इंडियंस ने लिखा, ‘इसे कहते हैं परफेक्ट घर वापसी।’

उनकी इस पोस्ट पर बहुत से लोगों ने कमेंट्स भी किए हैं। बहुत से लोगों ने उनके दृढ़ निश्चय की तारीफ की है। प्रफुल एमबीए चायवाले (@Prafull_mbachai) ने भी उनकी तारीफ की है। हालांकि, बहुत से ऐसे यूजर भी हैं, जिन्होंने इतने दिनों तक मां से दूर रहने पर उनकी आलोचना भी की।

किसी ने लिखा कि भारत में रहते हुए नौ साल तक मां से मिलने का समय नहीं मिला? किसी ने लिखा कि यदि मुझे आईपीएल या मां से किसी एक को चुनना होता तो मैं यही कहता कि भाड़ में जाए आईपीएल। किसी ने लिखा कि ऐसा भी पैसों के पीछे क्या पड़ना कि मां को 10 साल तक नहीं मिलो। @Imkartikeya26 ने लिखा, क्या तुम मार्स (मंगल ग्रह) पर प्रैक्टिस करने गए थे क्या?

उत्तर प्रदेश पुलिस में हेड कांस्टेबल के बेटे कुमार कार्तिकेय ने 15 साल की उम्र में ही घर छोड़ दिया था। घर छोड़ते वक्त उन्होंने कसम खाई थी कि जब तक वह कुछ हासिल नहीं कर लेंगे, तब तक घर नहीं लौटेंगे। उनके क्रिकेट करियर की शुरुआत उत्तर प्रदेश हुई थी। सफलता नहीं मिलने पर उन्होंने दिल्ली का रुख किया, फिर वह मध्य प्रदेश पहुंचे थे।

कुमार कार्तिकेय ने तब दैनिक जागरण से कहा था, ‘मैं 9 साल से घर नहीं गया हूं। मैंने फैसला किया था कि घर तभी जाऊंगा जब मैं जीवन में कुछ हासिल कर लूंगा। मेरी मां और पिताजी मुझे बार-बार फोन करके बुलाते हैं, लेकिन मैंने कसम ले रखी थी।’

उन्होंने कहा था, ‘अब मैं इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2022 के बाद घर लौटूंगा। मेरे कोच संजय सर ने मध्य प्रदेश के लिए मेरा नाम सुझाया था। पहले मेरा नाम अंडर-23 टीम में स्टैंडबाय खिलाड़ी के रूप में आया था। सूची में अपना नाम देखकर मुझे बड़ी राहत मिली थी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *