video ऑटो ड्राइवर के बेटे ने बचाई डेविड वॉर्नर की इज्जत, धड़कन रोक देने वाले मुकाबले में दिल्ली ने 7 रनों से मारी बाजी

sports क्रिकेट-न्यूज़ टीम-न्यूज़

आईपीएल 2023 में लगातार 5 हार के बाद दिल्ली कैपिटल्स विजय रथ पर सवार होती हुई नजर आ रही है। आज यानि 24 अप्रैल की रात को कैपिटल्स का सामना सनराइजर्स हैदराबाद से उन्हीं के घर यानी राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में हुआ था। दिल्ली के कप्तान डेविड वार्नर की ओर से टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया गया था। हालांकि उनकी टीम सिर्फ 144 रन ही जोड़ पाई। लिहाजा मेजबान हैदराबाद टीम को 145 रन का लक्ष्य मिला था। जिसके जवाब में हैदराबाद 6 विकेट गंवाकर सिर्फ 137 रन ही बना सकी और दिल्ली ने 7 रनों से बाजी मार ली।

62 के स्कोर पर आधी दिल्ली लौटी पवेलियन

टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली कैपिटल्स की सलामी जोड़ी एक बार फिर कुछ खास शुरुआत देने में कामयाब नहीं हो पाई। इसी बार कप्तान के साथ पृथ्वी शॉ नहीं बल्कि फिल सॉल्ट पारी का आगाज करने के लिए आए थे। लेकिन नतीजे में कुछ खास फर्क नहीं पड़ा। पहली ही गेंद पर फिल भुवनेश्वर कुमार का शिकार हो गए थे।

हालांकि इसके बाद मिचेल मार्श की ओर से जवाबी हमला करते हुए दूसरे ही ओवर में 19 रन बटोर लिए गए। लेकिन उनकी पारी लंबी नहीं चल सकी। 5वें ओवर में उन्हें नटराजन ने LBW आउट कर दिया। यहां से दिल्ली की पारी लड़खड़ाना शुरू हो गई। जिसमें सबसे अहम भूमिका वाशिंगटन सुंदर की रही। उन्होंने 8वें ओवर में आकर सबसे पहले सरफराज खान, फिर डेविड वॉर्नर और अमन खान को चलता कर दिया था। देखते ही सिर्फ 62 रन के स्कोर पर दिल्ली की आधी टीम पवेलियन की राह लौट चुके थे।

मनीष-अक्षर ने संभाली पारी, DC ने 144 रन बनाए

लगातार विकेटों के पतन के बीच मनीष पांडे के साथ अक्षर पटेल ने साझेदारी बनाना शुरू किया। दोनों भारतीय बल्लेबाजों ने स्पिन के लिए मददगार पिच पर संयम बरतते हुए 69 रन की साझेदारी की। जिसने दिल्ली को एक सम्मान जनक स्कोर पर पहुंचने में मदद मिली। अपनी पारी की दौरान अक्षर और मनीष ने 34-34 रन का का योगदान दिया।

134 के स्कोर पर पहुंचने तक यह दोनों बल्लेबाज आउट हो चुके थे। ऐसे में निचले क्रम के बल्लेबाजों से कुछ खास मदद नहीं मिलने के कारण दिल्ली अपने निर्धारित 20 ओवर खेलने के बाद भी 9 विकेट के नुकसान पर 144 रन ही बना पाई। हैदराबाद की ओर से इस पारी में भुवनेश्वर और सुंदर ने क्रमश: 2 और 3 विकेट हासिल किए।

सुंदर-क्लासेन की तूफ़ानी पारी पर मुकेश ने फेरा पानी

वहीं 145 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए हैदराबाद के बल्लेबाजों के हाथ-पांव भी फूलते हुए नजर आए। इस सीजन शतक जड़ने वाले हैरी ब्रूक दिल्ली की गेंदबाजी के सामने असहाय नजर आए और 14 गेंदों के भीतर सिर्फ 7 रन बनाकर एनरिक नोर्किया का शिकार हो गए। दूसरे छोर पर मयंक अग्रवाल एक विस्फोटक शुरुआत कर चुके थे। उन्होंने पहले 6ओवर में फील्डिंग के प्रतिबंध का पूरा फायदा उठाते हुए बड़े-बड़े शॉट्स लगाए और स्कोर बोर्ड को जारी रखा।

नंबर-3 पर मयंक का साथ निभाने आए राहुल त्रिपाठी भी खुलकर बल्लेबाजी करने में सक्षम नहीं हो पाए, लड़ते-झगड़ते इस साझेदारी ने 11.3 ओवर में 69 के संयुक्त स्कोर पर टीम को पहुंचाया। लेकिन महज 6 रनों के भीतर दोनों ने अपने विकेट गंवा दिए। जिसके बाद हैदराबाद की पारी बुरी तरह से लड़खड़ाना शुरू हो गई।

हालांकि अंत में हेनरिक क्लासेन ने 19 गेंदों में 31 रन बनाकर हैदराबाद की उम्मीदों को हवा दे दी थी। वहीं अंत में हैदराबाद को जीत के लिए 14 रन की दरकार थी, जहां मुकेश कुमार ने कसी हुई गेंदबाजी कर सिर्फ 5 रन दिए और दिल्ली को 7 रन से जीत मिली। गौरतलब है कि मुकेश कुमार के पिता उनके आईपीएल डेब्यू से पहले ऑटो चालक का काम करते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *