5 रन पर 3 विकेट गिरे, फिर भी बना हीरो, स्कूल में पढ़ाई करते बनाई थी टीम में जगह

sports आईपीएल न्यूज़ क्रिकेट-न्यूज़ टीम-न्यूज़

स्कूल के दिन किसी के भी जीवन के सबसे बेहतरीन दिनों में एक होते हैं. ना कोई चिंता होती है और ना ही चेहरे पर कोई शिकन. भविष्य की भी परवाह नहीं होती. ये दोस्तों के संग मौज मस्ती के दिन होते हैं. लेकिन, हम जिस क्रिकेट खिलाड़ी की बात कर रहे हैं, उसने अपने स्कूली दिनों में ही इंटरनेशनल टीम में जगह बना ली और देश के लिए खेलने लगा. टीम में उसके सेलेक्शन का किस्सा बताएंगे लेकिन पहले बात उसके किए ताजातरीन प्रदर्शन की. फिलहाल वो अपनी टीम की जीत का हीरो है. वो उस मैच में अपनी टीम की जीत का हीरो बना है जिसमें एक मोड़ पर 3 विकेट सिर्फ 5 रन पर गिर चुके थे.

हम जिस मैच विनर खिलाड़ी की बात कर रहे हैं उनका नाम है तातेंदा ताइबू. जिम्बाब्वे के इस पूर्व कप्तान ने फिलहाल तो जिस टीम को जीत दिलाई है, वो लेजेंड्स क्रिकेट लीग में खेल रही मणिपाल टाइगर्स है. लेकिन, जितना दिलचस्प लेजेंड्स लीग में मणिपाल टाइगर्स के लिए किया उनका प्रदर्शन है यकीन मानिए उतना ही दिलचस्प पहली बार जिम्बाब्वे की टीम में उनका चयन भी है.

हाई स्कूल के थे छात्र जब जिम्बाब्वे की टीम में हुआ चयन

करीब 5 फीट के तातेंदा ताइबू तब हरारे की चर्चिल बॉयज हाई स्कूल में पढ़ रहे थे जब जिम्बाब्वे की टीम में उनका चयन हुआ था. 18 साल के ताइबू का चयन वेस्ट इंडीज दौरे के लिए हुआ था. साल 2001 में उसी दौरे पर उन्हें इंटरनेशनल डेब्यू करने का मौका भी मिला. आगे चलकर साल 2004 में वो जिम्बाब्वे के कप्तान भी बने और इस तरह दुनिया के सबसे नौजवान कप्तान का तमगा भी हासिल किया. ताइबू की खासियत ये थी वो जितने फुर्तीले विकेट के पीछे ग्लव्स के साथ थे उतने ही लाजवाब विकेट के आगे बल्ले के साथ भी थे.

ताइबू ने 30 गेंदों पर ठोके 54 रन

खैर, ताइबू अब इंटरनेशनल क्रिकेट से दूर हैं और फिलहाल भारत में खेले जा रहे लेजेंड्स लीग में खेल रहे हैं. बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज यहां पर उन्होंने अपनी टीम मणिपाल टाइगर्स के लिए जीत में बड़ी भूमिका निभाई है. उन्होंने 5 चौके और 4 छक्कों की मदद से 30 गेंदों पर 54 रन बनाए और टीम के लिए जीत का स्टेज तैयार किया.

5 रन पर गिरे 3 विकेट, फिर भी 3 रन से जीत

ओपनिंग करते हुए ताइबू के इस प्रदर्शन का ही नतीजा रहा कि उनकी टीम ने भिलवारा किंग्स के सामने जीत के लिए 176 रन का लक्ष्य रखा. मणिपाल टाइगर्स ने 20 ओवर में 8 विकेट पर 175 रन बनाए थे. इन 8 विकेटों में आखिर के उसके 3 विकेट सिर्फ 5 रन पर गिरे थे. बावजूद इसके टीम ने 3 रन से जीत दर्ज की क्योंकि भिलवारा किंग्स 20 ओवर में 9 विकेट पर सिर्फ 172 रन ही बना सकी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *