25 चौके, 7 छक्के, इंदौर में खूब बरसे सहवाग, 149 गेंदों पर लगा दी थी ‘आग’

sports आईपीएल न्यूज़ क्रिकेट-न्यूज़ टीम-न्यूज़

दुनिया के तूफानी बल्लेबाजों में शुमार वीरेंद्र सहवाग महान बल्लेबाजों में शुमार सचिन तेंदुलकर को अपना आदर्श मानते थे. सहवाग के करियर पर सचिन का बड़ा असर रहा. सहवाग सचिन की तरह ही बनाना चाहते थे. अपने करियर में वह सचिन के पदचिन्हों पर ही चलना चाहते थे. इन बातों को सहवाग ने कई बार माना है. सहवाग ने कम के कम एक मामले में सचिन को फॉलो किया है. सचिन वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक बनाने वाले पहले बल्लेबाज थे. उनके बाद सहवाग ने ये काम किया था. वो भी आज ही के दिन यानी आठ दिसंबर को.

सहवाग ने 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ इंदौर में खेले गए मैच में दोहरा शतक जमाया था और वह वनडे क्रिकेट में ये काम करने वाले दूसरे बल्लेबाज बने थे. सचिन ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ ग्वालियर में 2010 में दोहरा शतक बनाया था और वनडे में ये काम करने वाले पहले बल्लेबाज बने थे.

होल्कर स्टेडियम में खेली थी कप्तानी पारी

भारत और वेस्टइंडीज के बीच ये मैच इंदौर के होल्कर स्टेडियम में खेला गया था. उस समय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इस मैच में नहीं खेले थे. धोनी की जगह सहवाग ने टीम की कप्तानी की थी. सहवाग ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. सचिन भी इस मैच में नहीं खेल रहे थे. गौतम गंभीर ने सहवाग के साथ पारी की शुरुआत की. इन दोनों ने पहले विकेट के लिए 176 रन जोड़े.

गंभीर 67 रन बनाकर आउट हो गए लेकिन सहवाग टिके रहे और ताबड़तोड़ अंदाज में बल्लेबाजी की. सहवाग 47वें ओवर की तीसरी गेंद पर आउट हुए थे, लेकिन आउट होने से पहले उन्होंने दोहरा शतक जमा दिया था. दाएं हाथ के इस तूफानी बल्लेबाज ने 149 गेंदों का सामना कर 25 चौके और सात छक्कों की मदद से 219 रनों की पारी खेली थी. सुरेश रैना ने 44 गेंदों पर 55 रन बनाए थे.

भारत को मिली थी जीत

सहवाग का पारी के दम पर भारत ने 50 ओवरों में पांच विकेट खोकर 418 रन बनाए. इसके सामने वेस्टइंडीज की टीम टिक नहीं सकी. मेहमान टीम 49.2 ओवरों में 265 रनों पर ढेर हो गई. भारत के लिए रवींद्र जडेजा और राहुल शर्मा ने तीन-तीन विकेट लिए. रैना ने दो और रविचंद्रन अश्विन ने एक विकेट लिया. वेस्टंडीज के लिए दिनेश रामदीन ने सबसे ज्यादा 96 रन बनाए.

सहवाग के बाद भारत के एक और सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा ने वनडे में दोहरा शतक जमाया वो भी एक बार नहीं दो बार. मार्टिन गुप्टिल, क्रिस गेल भी ये काम कर चुके हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *